तुलसियापुर:पं.बाबूराम शुक्ल इन्टर कालेज मे धूमधाम से मनाई गई परशुराम जयंती

सिद्धार्थनगर:बढ़नी विकास खण्ड के तुलसियापुर चौराहे पर स्थित पं.बाबूराम शुक्ल विद्या मंदिर इण्टर कालेज शुक्लागंज में शुक्रवार को भगवान परशुराम की जयन्ती मनायी गयी।सबसे पहले मौजूद लोगों ने भगवान परशुराम के चित्र पर पुष्प अर्पित किया।मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए युवा समाजसेवी रवि शुक्ल ने कहा कि ब्राह्मण एक जाति न होकर एक विचारधारा है।देश व समाज की सुरक्षा व मजबूती के लिए ब्राह्मणों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर कर अपने प्राणों की आहुति तक दे डाली है।जिसका इतिहास गवाह है परन्तु ब्राह्मणों के साथ बदले की भावना से सभी दल उत्पीड़न,शोषण व अत्याचार पर आमादा हैं।सभी दलों को चुनावों के समय ब्राह्मणों के आशीर्वाद की आवश्यकता होती है लेकिन चुनाव बाद कोई भी राजनैतिक दल इनके दर्द को सुनने वाला नहीं है।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ चिकित्सक डा.दिनेश पाण्डेय ने कहा कि प्रदेश सरकार ने परशुराम जयन्ती के अवकाश को समाप्त कर निन्दनीय कार्य किया है।भगवान परशुराम की गणना शास्त्रों में विष्णु के छठवें अवतार के रुप में किया गया है अतः केवल महापुरुष ही नहीं भगवान भी हैं।उनके जन्मदिवस के अवकाश  को अन्य महापुरुषों के जन्मदिवस की श्रेणी में रखकर समाप्त करना निन्दनीय कृत्य है।



पूर्व छात्रनेता पंकज तिवारी ने कहा कि केन्द्र सरकार को जाति आधारित आरक्षण को समाप्त करके आर्थिक आधार पर आरक्षण देकर समाज में एकरुपता लाने का प्रयास करना चाहिए।औदही कलां के पूर्व प्रधान मयंक शुक्ल ने कहा कि आज ब्राह्मण समाज का शिक्षित युवा बेरोगार घूम रहा है लेकिन केन्द्र सरकार अल्पसंख्यक आयोग,पिछड़ा आयोग,अनुसूचित जाति व जनजाति आयोग की तरह सवर्ण आयोग बनाने में हिचक रही है।श्रीरामलीला समिति के अध्यक्ष गंगाराम तिवारी ने कहा कि जब तक हमारे समाज में एकता नहीं होगी तब तक हमें इसी प्रकार उपेक्षित किया जायेगा।जब तक हम संगठित नहीं होंगे तब तक हम मजबूत और कामयाब नहीं होंगे।इस मौके पर राजीव शर्मा,उदय प्रताप मिश्र,  युधिष्ठिर शुक्ल,दरोगा मिश्र,संकटा प्रसाद पाण्डेय,बृजकुमार मिश्र,रमेश शुक्ल,शैलेन्द्र पाण्डेय,मनोज शुक्ल,श्रवण तिवारी,विनोद पाण्डेय,आशुतोष शुक्ल आदि लोग मौजूद थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ